Sunday, October 16, 2011

Meeting at Remschied, Germany

http://lenin-shruti.blogspot.com/2011/10/meeting-at-remschiedgermany.html

Violation of Right to education

RTE Violation Presentation

Saturday, July 30, 2011

A voice of voiceless

http://www.mynews.in/News/a_voice_of_voiceless_N375168.html

PVCHR’s linkage with NHRC dates back to its day of existence. Justice Shri Ranganath Mishra, Justice Shri Venkatchalaia and Justice Shri V.S. Mallimath were closely monitoring the initiatives of this UP based organization. Later on, taking into account, its work on human dignity and democratic participation they accepted the organisation’s request to join its advisory board.
For several years, PVCHR, a human rights organisation has been working at the grassroot level in Uttar Pradesh. Being a membership based organization it has strong organizational presence in Western Uttar Pradesh and Districts surrounding Varanasi.The organisation’s pioneering work is focused on strengthening rule of law through empowerment of the dalit and minorities and fighting against structural violence. Very recently it is using Testimonial Therapy to help the survivors in psychological rehabilitation and participation in justice process. It has always optimized the mandate of judiciary and human rights institutions for the victims.
The organization headed by Dr Lenin and run by a mixed group of grassroot workers and professionals function in a very transparent manner. Perhaps it is the only one organization that carry social audit every year.

Thursday, June 30, 2011

Francesco Gesualdi:member of PVCHR advisory committee

Francesco Gesualdi:member of PVCHR advisory committee

Rabi Ray was a member of PVCHR advisory commitee

Rabi Ray:a member of PVCHR advisory commitee

Justice Mr.Malimath:member of advisory committee -PVCHR

Justice Mr.Malimath:member of advisory committee -PVCHR

Justice Sukumaran:Member of advisory committee-PVCHR

Justice Sukumaran:Member of advisory committee-PVCHR

Justice Shri Rangnath Mishra:meber of Advisory Committe-PVCHR

Justice Shri Rangnath Mishra:meber of Advisory Committe-PVCHR

Darin:Memeber of advisory committee

Darin:Memeber of advisory committee

Francesco Gesualdi:member of PVCHR advisory committee

Francesco Gesualdi:member of PVCHR advisory committee

Letter of UN

Letter of UN

Letter of Canadian Embassy in case of PVCHR

Canadian Embassy letter

Saturday, June 4, 2011

Peoples' Vigilance Committee on Human Rights (PVCHR): Open letter to Chief Minister of Uttar Pradesh against the threat for rule of Law

Peoples' Vigilance Committee on Human Rights (PVCHR): Open letter to Chief Minister of Uttar Pradesh against the threat for rule of Law

Bal Panchyat story of Baghwanala

 
Jan Mitra Nyas under its child participation initiative formed Bal Panchayat in Baghwanala known as Munshi Premchandra Bal Panchayat. The member of Bal Panchayat decided to raise their voice against various major social issue concern. They successfully campaign and protested against the child marriage, child sexual abuse, water problem, encompass for the school, protested against the fire crackers and wrote letter to the President of India to stop the printing of National flag on the paper and plastic regarding disrespect of national flag in Banaras.
After one month the children of Bal Panchayat received letter from the office of President that all state were directed on this issue. After reading the letter children of Bal Panchayat became happy that Honorable President is seriously considering the voice of children. Today we see the national flag printed on plastic is banned. 
A day before diwali festival the children of Bal Panchayat protested against fire cracker in front of the district head quarter on 16th October, 09 and boycotted fire crackers as fire cracker is being made in several part of the India like Dalmandi, Malasi, Hamirapur and Shivakasi. In this industry children are also engaged with their parents and which results the marginalization of Lakhs of children with their fundamental rights. We didn't want this happiness on the cost of the lakhs of children's life. The happiness attain after snatching the childhood of children. In India 1 ½ Lakhs children are employed in the hazardous fire cracker industry and are finishing their life.
They pledged and appeal to the people "we will celebrate diwali by lighting candle not life" and they sink fire crackers in the water.[i] The family and the villagers appreciated on our initiative. http://pvchr.blogspot.com/2009/10/children-initiative-for-healthy_16.html
Child Marriage: They organized an urgent and joint meeting of Munshi Premchandra Bal Panchayat and Kishori Baithak to chalk out programmes to oppose the child marriage of Maneesha. The children associated with Bal Panchayat, in the leadership of above named three girls, prepared posters and handbills in the opposition of the child marriage and distributed it in the locality, including Maneesh's parents. They talked with the parents of Maneesha about the illegality of the marriage and warned them to face the legal consequences.
Again, they organized a meeting of Munshi Premchandra Bal Panchayat and asked Maneesh's parents to come in the meeting. In the meeting, Maneesha's parents agreed to send Maneesha to her in-laws house after she attains the age of 18. But just next day of the meeting, husband of Maneesha forcefully took Maneesha to his house. When Ms. Pouja, Ms. Jyoti and Ms. Chanda came to know about this incident, they went to Maneesha's in-laws house and forced them to see Maneesha off their house and took her to her parents house. After a long discussion between the representatives of Munshi Premchandra Bal Panchayat Maneesha's in-laws agreed in written to see Maneesha off from her parental home after she attains the age of 18. http://timesofindia.indiatimes.com/city/varanasi/Now-girls-say-I-wont-do/articleshow/6181691.cms
For this daring initiative of Ms. Pooja, Ms. Jyoti and Ms. Chanda against the child marriage, PVCHR honored above named girls on July 19, 2010 at hotel Kamesh. After wide coverage of this daring acts of Ms. Pooja, Ms. Jyoti and Ms. Chanda against child marriage in the local print media and electronic media, Marwadi Youth Committee also organized a honor ceremony and honored these girls for their action against the child marriage. Among others dignitaries, Sri D.K.Thakur, Deputy Inspector General of Police of Varanasi Zone, famous industrialist Sri JhunJhunwala was present at the occasion.
They also protested in front of the district head quarter to open school and also filed RTI to know the status of their application. 
 


[i] http://pvchr.blogspot.com/2009/10/children-initiative-for-healthy_16.html


Friday, June 3, 2011

Anti malnutrition drive by PVCHR

Anti malnutrition drive by PVCHR

Monday, May 2, 2011

स्‍कूल जाने वाली मुसहरों की पहली पीढी

http://www.sarokar.net/2011/04/स्‍कूल-जाने-वाली-मुसहरों/

19 अप्रैल 2011 को सुबह साढे दस बजे नार्वे की एक पत्रकार केन और मैं सकरा शिक्षण केंद्र पर पहुंचे. यह शिक्षण केंद्र मुसहर बस्ती में चलती है. सकरा से 500 मीटर पहले ही हमें अपनी गाड़ी छोड़नी पड़ी क्योंकि आगे का रास्ता साईकिल लायक भी नहीं था. अब हम दोनों पैदल ही टेढ़े-मेढे रास्ते पर संभल-संभल कर चल रहे थे और एक दूसरे को हैरानी से देख रहे थे कि लोग बरसात में यहाँ कैसे चलते होंगे. दस मिनट का सफर बीस मिनट में तय करके हम वहां पहुंचे. देखा, दोनों अध्यापक बच्चों के साथ शैक्षिक गतिविधि में लगे हुए थे. हमलोग कमरे के बाहर खड़े होकर सारी गतिविधि देख रहे थे. थोड़ी देर बाद बच्चों ने हमें देख लिया. और उत्सुकतावस हमें देखते रहे. शायद मेरे विदेशी मित्र उनके कौतुहल का विषय थे. बच्‍चे आपस में बातें करने लगे. प्रमोदजी, जो वहाँ पर अध्यापक हैं, ने बच्चों का ध्यान अपनी तरफ़ आकर्षित करने के लिए हिंदी का शब्द लिखा हुआ कार्ड निकला और ज़ोर से पूछा, ‘बताओ कौन सा शब्द आयेगा?’ कुछ बच्चों ने कहा, ‘अ’. कुछ ने कहा ‘क्ष’. इस प्रकार सभी बच्चों ने कुछ न कुछ बताया. देख कर लगा कि सारे बच्चे अध्यापक के साथ जुड़े है और उनका आपस में ठीक से संवाद हो रहा है. प्रमोदजी ने इस बार कार्ड का कुछ हिस्सा छुपाया और कुछ हिस्सा बच्चों को दिखाते हुए उन्हें अक्षर पहचानने को कहा. बच्चों ने फिर से अक्षर को और विश्वास के साथ पहचाना. जिन बच्चों का ग़लत होता तो दूसरे बच्चे उनकी ग़लती बताते.


                                            
                                                   शिक्षण केंद्र में बच्‍चे
देखकर लगा कि बच्चे आपस में एक-दूसरे की बातें ध्यान से सुनते हैं. क्लास में बहुत अच्छा माहौल था. सभी बच्चो कि भागीदारी हो रही थी. इसके बाद उन्होंने अंग्रेजी व अंको के चार्ट के साथ वही गतिविधि चलाई. बच्चे पूरा आनंद लेकर पढ़ रहे थे. इसके बाद उन्होंने एक-एक बच्चे को खड़ा करके चार्ट से अन्य बच्चों को पढाने के लिए कहा. उन्होंने बच्चो कि ग्रेडिंग भी कर रखी थी कि किन बच्चों का समूह सबसे तेज़ है, किनका मध्‍यम और किनका कमजोर है. लेकिन बच्चों को उस ग्रेडिंग के बारे में नहीं पता था. ग्रेड के हिसाब से वे बच्चो को अवसर दे रहे थे.

इसके बाद कई बच्चों ने हाव-भाव के साथ कविता सुनाई. अब बच्चों के साथ अध्यापक क्लास रूम से बाहर आ गए थे. सबको पता था कि अब क्या होने वाला है. वे बहुत उत्साहित थे. खेल शुरू होने वाला था. बच्चे गोला बनाकर खड़े हो गए. अध्यापक उनके बीच में खड़े थे. सब गोल दायरा बनाकर घूम रहे थे और अध्यापक बोल रहे थे, ‘मामा

खेल की बारी गए बाज़ार. क्या लाए, भाई क्या लाए?’ बच्चों का जवाब होता, ‘लड्डू’. फिर अध्यापक पूछते – कितने ? बच्चे बोलते – आप चाहें, जितने. तब अध्यापक बोलते – तीन. और बच्चे घूमना बंद करके तीन -तीन का ग्रुप बनाते. जो बच्चा ग्रुप नहीं बना पाता या ग्रुप से छूट जाता वह बाहर हो जाता. इसी प्रकार कई बार यही प्रक्रिया चलाई गई. फिर बच्‍चे दूसरे खेल के लिए हुए. इस बार फिर बच्चों ने गोला बनाया और अध्यापक ने एक बड़ा सा गोला लकड़ी से खीचा. सभी बच्चे उस गोले के बाहर खड़े हो गए और खेल शुरू हुआ.

अध्यापक ने कहा, ‘नदी’ और सभी बच्चे गोले के अंदर कूद गए. फिर अध्यापक ने कहा, ‘किनारा’ और सभी बच्चे गोले से बहार आ गए. इसी प्रकार जल्दी-जल्दी बोलने से कुछ बच्चे ग़लत कूदते तो वो बाहर हो जाते. और काफी देर तक खेल चलता रहा. अंत में एक बच्चा ही बचा और उसे विजेता घोषित किया गया. इस खेल के दौरान जो बच्चे बाहर हो गए थे वे लोग जो बच्चे खेल में बने थे उनका हौसला बढ़ाने के लिए चिल्ला रहे थे. सभी बच्चे बहुत खुश थे.

मुसहर बस्ती सकरा में ये पहली पीढ़ी है जो शिक्षा से जुड रही है. यहाँ पर कुल 45 परिवार है लेकिन कोई भी पढ़ा-लिखा नहीं है. क्योकि इनके बस्ती से 3 किलोमीटर तक कोई स्कूल नहीं है और जो है वो भी ठाकुर बस्ती में है. जब ये लोग वहां गए तो ठाकुरों ने इन्हें मारपीट कर भगा दिया. वे इन्हें पकड़कर जबरदस्ती अपने खेतों और घरों में कम करवाते थे. इसी खौफ़ से कोई भी बस्ती में नहीं जाता. ठाकुर लोग इनकी औरतों से भी जबरदस्ती करने का प्रयास करते. कई बार इन लोगों कि बस्ती में घुसकर इनको मारा-पीटा और इनके घर भी जला दिए थे.

                                          
                                                 खेल की बारी


‘मानवाधिकार जन निगरानी समिति’ ने इन बच्‍चों पढाने की बात की तो ये लोग बहुत खुश हुए. साथ ही इन्‍होंने डर भी व्‍यक्त किया कि ठाकुर लोग फिर से मारेंगे. लेकिन बातचीत के दौरान इन्हें बताया गया कि कानून के अनुसार कोई भी ठाकुर मुसहर को नहीं मार सकता. यदि कोई ऐसा करता है तो उसके लिए कानूनन बहुत ही कठोर सजा का प्रावधान है. जिसके बाद वो लोग अपने बच्चो को पढाने के लिए तैयार हो गए. वहां पर ‘ग्लोबल फंड फॉर चिल्ड्रेन’ व ‘मानवाधिकार जन निगरानी’ के सहयोग से बच्चों के पढ़ने के लिए 2 कमरों का स्कूल बनवाया गया जिसके लिए ज़मीन स्‍थानीय महतिम मुसहर ने दी. आज स्कूल चल रहा है. जब बच्चे पढते हैं और खेलते हैं तो पूरा समुदाय खड़ा होकर देखता है और खुश होता है. जब हमने वहाँ कुछ लोगों से बात की तो महतिम ने कहा ‘अब हमारे बच्चे भी पढ़-लिख कर होशियार हो जायेंगे. वे अब हमारे साथ ईंट भट्ठे पर काम करने नहीं जायेंगे. अब ये भी बड़े होकर साहब बनेंगे और किसी का अत्याचार नहीं सहेंगे’

                                                                            एक झलक
मुसहर बस्‍ती की एक झलक अनुप कुमार श्रीवास्‍तव बनारस में रहते हैं और पिछले कुछ वर्षों से मानवाधिकार के मसले पर सक्रिय हैं. इनसे compujai.vns@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है.